कलेक्टर ने जनता से डेंगू-बुखार से बचाव, सावधान रहने व स्वच्छता की अपील की, मतदान केन्द्रों में मूलभूत-सुविधा उपलब्ध कराने व स्वीकृत निर्माण कार्यों में तेजी लाने के दिये निर्देश

नारायणपुर। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने आज समय-सीमा की बैठक लेकर डेंगू बुखार संबंधित जानकारी ली। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि जिले में डेंगू बुखार से पीड़ित कोई भी रोगी अस्पताल में नहीं आया है। जिले में भी डेंगू पीड़ित कोई केस देखने को नहीं मिला है। स्वास्थ्य अमला इसके लिए पूरी तरह सजग और मुश्तैद है। सावधानी के तौर गली मोहल्लों में नालियों में जरूरी दवाईयों का छिड़काव किया जा रहा है। ग्रामीण इलाकों के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और लोगों को जागरूक करने कहा।

कलेक्टर ने कहा कि डेंगू एक संचारी रोग है। यह वयस्कों के मुकाबले बच्चोें में इस बीमारी की तीव्रता अधिक होती है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि डेंगू वायरस (विषाणु) होता है। इसका वाहक एडिज एजीप्टाई एवं एडिज एल्बोपीट्स नामक मच्छर होता है। आम बोल की भाषा में इस बीमारी हड्डी तोड़ बुखार कहा जाता है। क्योेंकि इसके कारण शरीर व जोड़ों में बहुत दर्द होता है। उन्होेंने अधिकारियों के साथ लोगों से भी अपील की कि डेंगू के मच्छर ठहरे हुए पानी में पनपते है। जैसे कुलर, पुराने बर्तन, नारियल की खोटली, पुराने टायर में रूका हुआ पानी इत्यादि। अतः यह सब घर के आसपास हों तो उसे हटाएं और साफ-सफाई करें।

कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी समेत मुख्य नगर पालिका, स्वास्थ्य अमले को सभी जरूरी व्यवस्था करने के निर्देश दिए। इसी के साथ जिला पंचायत सीईओ और जनपद पंचायत सीईओ को भी उस बीमारी के प्रति गांव में पंच-सरपंच एवं सचिवों के से लोगों का जागरूक करने कहा। वहीं ग्राम पंचायतों में जागरूकतता शिविर आयोजित किये जाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने जिले में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों की समीक्षा की। बैठक में आगामी विधानसभा निर्वाचन को ध्यान में रखते हुए जिले के अंतर्गत आने वाले सभी मतदान केन्द्रों में मूलभूत सुविधा जैसे दिव्यांग मतदाताओं के लिए रैम्प के साथ ही पेयजल, बिजली, शौचालय आदि की सभी जरूरी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि जिले के जिन स्कूलों को मतदान केन्द्र घोषित किया गया है, उन्हीं स्कूलों को मतदान केन्द्र के रूप में तैयार किया जाये। मतदान केन्द्रों को अपनी मर्जी से परिवर्तित न करें। अगर किसी कारणवश कुछ मतदान केन्द्र परिवर्तित करने की आवश्यकता हो तो, वे दो दिवस के भीतर प्रस्ताव देें।

बैठक में कलेक्टर ने जिले में चल रहे सड़क, भवन एवं अन्य निर्माण कार्यों को तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकरियों से जिले के दिव्यांगजन की सूची जल्द से जल्द उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री वर्मा ने आंकाक्षी जिलों में संचालित केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की बारी-बारी से जानकारी ली। बैठक में उन्होंने विशेष केन्द्रीय सहायता योजनांतर्गत विभागों को प्रस्ताव अतिशीघ्र प्रस्तुत करने कहा। इसके साथ ही उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों से अतिवृष्टि से हुई क्षति का प्रतिवेदन तैयार कर एक सप्ताह के भीतर देने के निर्देश दिये। बैठक में खाद्य, कृषि, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, उद्यानिकी, महिला एवं बाल विकास विभाग आदि विभागों के कार्योे की समीक्षा की गयी।

बैठक में सीईओ जिला पंचायत अशोक चौबे, एसडीएम भूपेन्द्र साहू, डिप्टी कलेक्टर निधी साहू, एसएन बाजपेयी, जीएस नाग के अलावा अन्य विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *