लाठीचार्ज जैसी दुर्भाग्यजनक घटना निंदनीय – भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शिवरतन शर्मा ने कांग्रेस पर प्रदेश में तनाव फैलाने एवं कानून व्यवस्था की स्थिति खराब करने का बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सोची-समझी रणनीति के तहत इस प्रकार का काम कर रही है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों को प्रभावित करने की योजना के तहत बिलासपुर की घटना को अंजाम देना, कांग्रेस का पूर्वाभ्यास प्रतीत होता है।

कल बिलासपुर में कांग्रेस के कचरा फेंकने के कार्यक्रम और उससे उपजी परिस्थितियों के कारण बिलासपुर में हुई लाठीचार्ज की दुर्भाग्यजनक घटना पर भाजपा प्रवक्ता शिवरतन शर्मा अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे थे। उन्होंने कहा कि घटना के संदर्भ में प्रदेश के मुख्यमंत्री जी ने संज्ञान लेकर उसकी जांच की घोषणा कर दी है। भाजपा इस दुर्भाग्यजनक घटना की निंदा करती है ।

उन्होंने कहा कि 2002-03 में कांग्रेस शासन में विपक्षी नेता प्रतिपक्ष नंदकुमार साय की पुलिस लाठीचार्ज में टांग तोड़ दी गई थी, कई भाजपा नेताओं को बर्बर तरीके से पीटा गया था लेकिन तत्कालीन कांग्रेसी मंत्रियों जिसमें भूपेश बघेल, सत्यनारायण शर्मा ने पुलिस कार्रवाई की निंदा नही की हम तो कल की घटना की निंदा करते है। मुख्यमंत्री जी ने घटना की जांच की घोषणा कर दी हैं जिससे सच सामने आ जायेगा।

शर्मा ने कहा कि कांग्रेस की रणनीति का खुलासा पूर्व में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामदयाल उइके के बयान से जाहिर होता है। संकल्प यात्रा में प्रदेश प्रभारी पुनिया के सामने उइके ने कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा था कि ‘चाहे हमें लाठी चलानी पड़े या गोली चलानी पड़े, इस बार हम कांग्रेस की सरकार बनाकर रहेंगे।‘ इससे साफ प्रतीत होता है कि कांग्रेस ऐनकेन प्रकारेण कर सत्ता हासिल करना चाहती है इसके लिए बेशक उसे अलोकतांत्रिक तरीके क्यों न अपनाना पड़े।

शर्मा ने कहा कि वास्तव में कांग्रेस, मुद्दा विहीन हो गई है और प्रदेश में अराजकता की स्थिति पैदा कर जनता की सहानुभूति हासिल करने का विफल प्रयास कर रही है, परंतु छत्तीसगढ़ की शांतिप्रिय जनता कांग्रेस के कार्यकलाप को जानती है व उनके झांसे में नहीं आने वाली। भारतीय जनता पार्टी पुनः जनता का साथ लेकर तीन बार की तरह इस बार भी सरकार बनाकर जनता की सेवा करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *