Press "Enter" to skip to content

2 IPS, 9 RPS, 17 इंस्पेक्टर के जिम्मे सूर्यगढ़ होटल की सुरक्षा, यहीं हैं गहलोत खेमे के विधायक

Rajasthan Government Crisis Today Latest News Live Updates: राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट गुट के बीच सियासी घमासान जारी है। राज्यपाल कलराज मिश्र की ओर से विधानसभा सत्र बुलाने की मंजूरी मिलने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हार्स ट्रेडिंग का खतरा बताया। इसी कारण उन्होंने अपने गुट के विधायकों को जैसलमेर के सूर्यगढ़ पैलेस में शिफ्ट किया। सूर्यगढ़ पैलेस की सुरक्षा और होटल में रुके विधायकों की निगरानी के लिए गहलोत सरकार ने जयपुर कमिश्नरेट की पुलिस पर भरोसा जताया है।

जयपुर कमिश्नरी के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त राहुल प्रकाश और डीसीपी नार्थ डॉ. राजीव पचार की अगुआई में 2 आईपीएस (IPS), नौ आरपीएस (RPS) और 17 इंस्पेक्टरों समेत 88 पुलिसकर्मियों की टीम को जैसलमेर भेजा गया है। इनमें से 24 पुलिसकर्मी सादी वर्दी में होटल के आसपास तैनात रहेंगे। यह टीम शनिवार को जयपुर से रवाना हुई।

सचिन पायलट के विधायक भी होटल में रुके हुए हैं।  इस बीच गहलोत और पायलट गुट के जो विधायक होटलों में रुके हैं, उनके वेतन-भत्ते रोकने के लिए राजस्थान हाई कोर्ट में विवेक सिंह जादौन की ओर से जनहित याचिका (पीआईएल) दाखिल की गई है। याचिका में दलील दी गई है कि कोरोनावायरस के कारण राज्य की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है, लेकिन विधायक अपने इलाकों में जाने की बजाय होटलों में ठहरे हैं।

हालांकि, इस मामले में गहलोत का कहना है कि जयपुर हो या जैसलमेर जनता के कामों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, ‘मैं जयपुर में रहूंगा। मंत्री भी यहीं रहेंगे। ज्यादातर लोग आते-जाते रहेंगे। गवर्नेंस में कोई कॉम्प्रोमाइज नहीं होगा। कोरोना को लेकर रोज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहा हूं। कानून व्यवस्था संभाल रखी है, लेकिन सरकार बचाना भी जरूरी है।’

ऐसे में सवाल यह सवाल उठ रहा है कि ये गहलोत गुट के विधायकों को जयपुर के फेयरमोंट होटल से जैसलमेर के सूर्यगढ़ पैलेस ही क्यों शिफ्ट गया? दरअसल इसके कई अहम कारण हैं। पहला कारण होटल फेयरमोंट पर ईडी का कसता शिकंजा था। ईडी ने 13 जुलाई को इस होटल पर छापेमारी की थी। ऐसे में गहलोत गुट को आशंका थी कि एक बार फिर यहां छापेमारी हो सकती है।

Rajasthan Government Crisis LIVE Updates: 

यही वजह है कि गहलोत ने अपने समर्थक विधायकों को वहां से निकालना ही बेहतर समझा। इसके अलावा होटल फेयरमोंट दिल्ली रोड पर होने के कारण महफूज नहीं समझा जा रहा था। ऐसे में जैसलमेर से 20 किलोमीटर दूर एकांत में बना होटल सूर्यगढ़ कांग्रेस को बेहतर ठिकाना लगा। जयपुर में राजधानी होने के चलते विधायकों के सरकारी आवास थे और वहां उनसे मिलने के लिए लोगों का आना-जाना लगा था। ऐसे में कांग्रेस ने विधायकों को जैसलमेर शिफ्ट करना बेहतर समझा।

More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *